एक सीतामढ़ी और भी है!

आप में से कितने लोग जानते हैं की भारत में एक और सीतामढ़ी है?
जी हाँ उत्तर प्रदेश जिले में एक और सीतामढ़ी है जो इलाहाबाद और वाराणसी के बीच स्थित है|

Sitamarhi, Uttar Pradesh.
Sitamarhi, Uttar Pradesh.

जैसे हमारा सीतामढ़ी जानकी उद्भव स्थल है वैसे वो सीतामढ़ी सीता समाहित स्थल है| यानी की हमारे सीतामढ़ी में सीता माता धरती से प्रकट हुई थी और उस दुसरे सीतामढ़ी में धरती में समा गयी थीं|
उनके प्रकट होने की कहानी तो आप सब को पता ही होगी की किस तरह राजा जनक हो हल चलाते वक़्त सीता माता मिली थी|
अब उनके समाहित होने की कहानी सुनिए-
श्री राम द्वारा परित्याग किये जाने के बाद सीता माता वाल्मीकि ऋषि के आश्रम में रहने लगी| वहीँ उन्होंने दो पुत्रों लव और कुश को जन्म दिया| भगवान् राम ने जब अश्वमेध यज्ञ किया तब उन्ही के पुत्रों लव और कुश ने उस घोड़े को पकड़ लिया| जब श्रीराम अपने घोड़े को लेने पहुँचे तब लव और कुश ने उनसे युद्ध किया| इसके पश्चात् उन्हें पता चला की ये दोनों उन्ही के पुत्र थे| तब सीता माता ने दोनों पुत्रों को श्रीराम को सौंप कर अपने मानव जीवन का अंत कर दिया| और अपनी माता धरती में समा गयीं|

3 thoughts on “एक सीतामढ़ी और भी है!

  1. धन्यवाद प्रीति पराशर जी

  2. श्रीराम द्वारा सीता माता के परित्याग की कथा काल्पनिक और मिथ्या है।वाल्मीकि रामायण की प्राचीन पांडुलिपियों में इसका कोई उल्लेख नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *