जब डीएम ने खेत पहुंच कर खुद काटे धान । ”श्री विधि” तकनीक से की गयी थी यह धान की खेती ।

https://youtu.be/1UdbQkYktK0

डीएम डॉ. रणजीत कुमार सिंह ने जिले के किसानों के खेतों में पहुँचकर स्वयं अपने हाथों से धान कटनी का कार्य कर युवाओ को किसानी कार्यो से जुड़ने का दिया संदेश। माधवपुर रौशन पंचायत के परसौनी गाँव के किसान हरिश्चन्द्र झा द्वारा श्री विधि से की गई धान की खेती का डीएम ने अपनी उपस्थिति में क्रॉप कटिंग करवाया।

डीएम ने कहा कि आधुनिक कृषि तकनीकों को अपनाकर ही किसानों की आय को बढ़ाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि जब पढ़े लिखे युवा किसानी कार्य से जुड़ेंगे तब निश्चित रूप से कृषि के क्षेत्र में क्रांति आएगी तथा कृषि उत्पादन में वृद्धि के साथ-साथ किसानों के आय को दुगना किया जा सकता है।

उन्होंने कहा कि देश की हर थाली में एक बिहारी व्यंजन हो,इसके लिए हमे कृषि के आधुनिक एवम वैज्ञानिक तरीको के साथ -साथ व्यवसायिक खेती को भी अपनाना पड़ेगा। डीएम ने बुजुर्ग किसान हरिश्चन्द्र झा के हौसले को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि नॉकरी से सेवानिवृत्त होने के उपरांत इतने उत्साह एवम लगन से खेती कर आपने युवाओ के लिए एक अच्छा संदेश दिया है। गौरतलब हो को हरिश्चन्द्र झा कार्यपालक अभियंता से सेवानिवृत्त होने के पश्चात अपने बड़े ओहदे वाले पुत्रो का साथ न रहकर गॉंव में रहकर किसानी के कार्यो को करने का निर्णय लिया। उनके द्वारा डेयरी, मछली पालन,पौध रोपण आदि कार्य भी किये जा रहे है। उन्होंने सरकार की कृषि योजनाओ का लाभ उठाकर न सिर्फ कृषि उत्पादन को बढ़ाया बल्कि अपनी आमदनी भी बढ़ाई। उनके खेत की क्रॉप कटिंग के उपरांत धान की उपज प्रति हेक्टेयर 150.4 क्विंटल प्राप्त किया गया जो अपने आप मे एक रिकॉर्ड है।

यह धान की खेती श्री विधि से की गई थी।सामान्य तरीको से की गई धान की खेती में 60-70 क्विंटल प्रति हेक्टर से अधिक उपज प्राप्त नही की जा सकती है। सरकार द्वारा श्री विधि से खेती को प्रोत्साहित करने हेतु किसानों को प्रति एकड़ 3280 रुपया उनके खाते में दिया जाता है,जिसके द्वारा वे श्री विधि किट का क्रय करते है,जिसमे सीड ट्रीटमेन्ट,नर्सरी मैनेजमेंट,पोषण मैनेजमेंट आदि के लिये आवश्यक सामान होते है।-

न्यूज़ साभार : डीपीआरओ, सीतामढ़ी

लाइक कीजिये #सीतामढ़ी_पेज http://facebook.com/Sitamarhi और जुड़े रहिये अपने शहर सीतामढ़ी से ।

#Sitamarhi_Page सीतामढ़ी का सबसे बड़ा वेब पोर्टल है । फेसबुक पर इसके 80 हज़ार Followers हैं ।

आर्टिकल : रंजीत पूर्बे

Thanks ! Sitamarhi Web Family

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *