नेताओं ने फ़ोटो खिंचाया था लेकिन अब शौचालय खंडहर में तब्दील

मित्रों एवं महाशयों आज की चर्चा स्वच्छ भारत अभियान को लेकर है आप सभी जानते है कि देश मे स्वच्छ भारत अभियान चलाया जा रहा है । लेकिन ऐसा मालूम पड़ता है कि केवल यह अभियान प्रचार प्रसार तक ही सीमित है।जिसके उदाहरण स्वरूप हमने कुछ तस्बीर आपके सामने रखने का प्रयास किया है । ऐसा नहीं है कि इनका निर्माण स्वछता अभियान के द्वारा कराया गया हो। स्वच्छता अभियान में तो लोगों के प्रखंड में कोई काम शायद ही हुआ हो पर इतना जरूर है कि कुछ माननीय लोग इस अभियान के नाम पर फ़ोटो जरूर खिचबाये है। लेकिन सार्वजनिक रूप स्वच्छता पर कोई जो काम हुआ है और जो व्यवस्था बनी है उसकी मिसाल ये तस्बीर है ।

इस शौचालय का निर्माण आज से बीस साल पहले हुआ। हुआ तो था आम जनता के लिये निशुल्क लेकिन निशुल्क तो कभी नहीं रहा लेकिन पहले जहाँ पचास पैसे लिए जाते थे वही अब पांच रुपये लिए जाते है । लेकिन जब पचास पैसे लिये जा रहे थे तब तो थोड़ा व्यवस्थित भी था लेकिन आज पांच रुपये लिये जा रहे लेकिन सुबिधा के नाम पर असुविधा से ग्रसित है । प्रखंड स्तर के सम्मानित मीडिया कर्मी के लिये ये खबर नहीं है वही प्रखंड स्तर पर चलने वाली बिभिन्न राजनैतिक संगठन के लिये ये मुद्दा नहीं है।पर हम तो साहब मासूम बच्चे है। जो दिखा वो लिख दिया । क्या गलत क्या सही ये तो मालूम नही महाशय पर इतना जरूर की ये नाइंसाफी अपने साथ बहुत सारे सवाल पीछे छोड़ जाती है। अंतः स्वच्छता अभियान की जो तस्बीर हमने आप लोगो के सामने रखा है उससे मुझे उमीद की प्रखंड के महाशय एवं अधिकारी जन को नींद से जगाने के लिये काफी साबित हो ।

Report:- Rahul kumar Lath

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *