रमजान में इबादत का महत्व।

 

 

इबादत का समय सीतामढ़ी में।

साल के बारह महीनों में रमजान का महीना मुसलमानों के लिए खास मायने रखता है। यह महीना संयम और समर्पण के साथ खुदा की इबादत का महीना माना जाता है जिसमें हर आदमी अपनी रूह को पवित्र करने के साथ अपनी दुनियादारी की हर हरकत को पूरी तत्परता के साथ वश में रखते हुए केवल अल्लाह की इबादत में समर्पित हो जाता है। जिस खुदा ने आदमी को पैदा किया है उसके लिए सब प्रकार का त्याग मजबूरी नहीं फर्ज बन जाता है। इसीलिए तकवा लाने के लिए पूरे रमजान के महीने रोजे रखे जाते हैं।

रमजान के बारे में गहराइयों से जानकारी देते हुए अखिल भारतीय इमाम संगठन के अध्यक्ष इमाम उमेर अहमद इलियासी का कहना है कि रमजान के महीने में की गई खुदा की इबादत बहुत असरदार होती है। इसमें खान-पानसहित अन्य दुनियादारी की आदतों पर संयम कर जिसे अरबी में “सोम” कहा जाता है आदमी अपने शरीर को वश में रखता है साथ ही तराबी और नमाज पढ़ने से बार-बार अल्लाह का जिक्र होता रहता है जिसके द्वारा इंसान की आत्मा (रूह) पाक-साफ होती है।

उन्होंने कहा इनसान गलतियों का पुतला भी होता है। अतः अपनी गलतियों को सुधारने का मौका भी रमजान के रोजे में मिलता है। गलतियों के लिए तौबा करने एवं अच्छाइयों के बदले बरकत पाने के लिए भी इस महीने की इबादत का महत्व है। इसीलिए इन दिनों जकात देने का खासा महत्व है।

जकात का मतलब है अपनी कमाई का ढाई प्रतिशत गरीबों में बाँटना। वस्तुतः जकात देने से आदमी के माल एवं कारोबार में खुदा बरकत करता है। उन्होंने कहा इस्लाम में रोजे, जकात और हज यह तीनों फर्ज हैं मजबूरी नहीं। अतः 12 साल से ऊपर के बालिक रोजा रखना अपना फर्ज समझते हैं। ईद से पहले फितरा दिया जाता है जिसमें परिवार का प्रत्येक व्यक्ति ढाई किलो के हिसाब से गेहूँ या उसकी कीमत की रकम इकठ्ठा कर उसे जरूरतमंदों में बाँटता है।

रमजान के बारे में एक खास बात में इलियासी कहते हैं कि रमजान का महीना एक गर्म पत्थर से मायने रखता है। उस जमाने में अरब में आज से भी भीषण गरमी होती थी। अतः गरमी से तपते पत्थर से नसीहत लेते हुए, कि जैसे यह सूरज की किरणों से तप रहा है, वैसे ही तुम अल्लाह की इबादत में तप कर अपने तन-बदन एवं रूह को पाक-साफ बना लो।

उन्होंने कहा कि सियासी चालबाजी और दुश्मन मुल्कों की हरकतों को समझते हुए भारत के लोगों को उन्नति के रास्ते पर चलना चाहिए। तभी हमारा देश दुनिया के सामने महाशक्ति बनकर खड़ा होगा। कश्मीर को भारत का अभिन्न अंग बताते हुए उन्होंने कहा हम सबको वहाँ की अमन शांति के लिए मिलकर दुआ माँगनी चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *