लापता जनप्रतिनिधियों के तीन साल

  • मोदी सरकार को आज भले ही तीन साल पूरे हो चुके हों लेकिन इससे सीतामढ़ी की जनता को क्या मिला ये सब जानते है । आज से सरकार अपने द्वारा किया गया काम की उपलब्धि को गिना रही है क्योंकि उन्होंने तीन साल में कुछ किया तो है । अब हमारे सांसद महोदय की तरह थोड़ी है जो साल में तीन बार नजर आए । आखिर सीतामढ़ी को क्या मिला तीन सालों में ये सोचना चाहिए जनता को, हमने क्या देख कर वोट किया अपने मन मे विचार कीजिये खुद समझ आ रहा होगा ।

शायद चुनाव जीतने के बाद राम कुमार शर्मा इस जानकी मंदिर में जरूर आये होंगे, क्या पहले भी यहां पानी जमा रहता था तो हाँ पहले भी ऐसा होता था, लेकिन हमें हिंदुत्व दिखाई दिया अब हिंदुत्व का ही प्रतीक चिन्ह जल जमाव का शिकार हुए हैं ।

अब बात हमारे माननीय विधायक जी की इन्होंने सीतामढ़ी महोत्सव में जोर शोर मचाया कि केंद्रीय पर्यटन मंत्री जी द्वारा बयान घटिया है लेकिन महाशय आपने सीता मइया को पानी मे डूबने क्यो छोर दिया । गंदगी में रहने को मजबूर है माँ, कभी आकर उनका हाल पूछ लिया करो साहब ।

नगर परिषद कचरा प्रबंधन में बहुत ही नाकाम रहा है, जल जमाव सिर्फ मंदिर तक सीमित नही है मंदिर के ठीक पिछे राजमार्ग पर भी एक बड़ा सा गड्ढा है जिसमे अभी हमारे जैसे 5 फ़ीट का आदमी डूब जाए तो पता न चले ।

खैर तीन साल बेमिसाल, जनता याद रखेंगी अब 2 साल बाद चुनाव है शायद कुछ बदलाव हो, धन्यवाद ।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *