विकास योजनाओं की समीक्षात्मक बैठक में लिए गए कई महवपूर्ण निर्णय ।

जिले में चल रही योजनाओं को हर हाल में पूरी गुणवत्ता के साथ ससमय पूरा करे । उक्त बातें जिलाधिकारी डॉ रणजीत कुमार सिंह आज समाहरणालय में आयोजित तकनीकी विभागों के पदाधिकारियों के साथ बैठक में कही । डीएम ने पथ निर्माण विभाग, पीएचडी,ग्रामीण कार्य विभाग, स्थानीय क्षेत्र संगठन, लघु सिंचाई, जिला शहहरी अभिकरण आदि विभागों द्वारा जिला में चलाई जा रही योजनाओं का का समीक्षा किया ।

लघु सिंचाई विभाग के समीक्षा के दौरान पाया गया कि जिले में कुल 352 नलकूप है । जिसमे 211 कार्यरत है तथा 141 विभिन्न दोषों के कारण बन्द पड़े हैं। डीएम ने निर्देश दिया कि विद्युत दोष के कारण बन्द पड़े 69 नलकूपों को कार्यपालक अभियंता विद्युत तथा कार्यपालक अभियंता नलकूप आपस मे समन्वय कर अविलंब चालू करवा कर रिपोर्ट करे । डीएम ने यह भी निर्देश दिया कि सारे नलकूपों को व्यवस्थित ढंग से चलाने हेतु सक्षम व्यक्ति या संस्था को जवाबदेही सौंपे । ज्ञात हो कि सरकार के निर्देश के आलोक में सरकारी नलकूपों को चलाने हेतु कोई भी व्यक्ति या संस्था जिम्मेवारी ले सकता है । जवाबदेही लेने वाले व्यक्ति या संस्था को नलकुपों का रख रखाव करने के साथ साथ रियायती दर पर 75 पैसे प्रति यूनिट के हिसाब से बिजली बिल जमा करना है । इस सम्बंध में विशेष जानकारी के लिए कार्यपालक अभियंता, लघु सिंचाई अथवा उनके कार्यालय से सम्पर्क किया जा सकता ।

पूल निर्माण निगम के अभियंता द्वारा बताया गया कि 20 योजनाएं ली गयी है । इसमें 7 पूर्ण हो चुके है , 10 में कार्य चल रहा, 3 में कुछ विवाद है । डीएम ने निर्देश दिया कि कार्य मे तेजी लाकर ससमय योजनाओं को पूरा करे ।

बागमती प्रमंडल के कार्यपाल अभियंता द्वारा बैठक में बताया गया कि बागमती प्रमंडल के अंतर्गत सभी तटबन्ध सुरक्षित है । तथा प्रतिकूल परिस्थिति से निबटने हेतु सभी आवश्यक तैयारी पूरी कर ली गयी है ।

सीतामढ़ी में रिंग रोड के लिए डीपीआर बनाने हेतु सम्बन्धित अभियंता को डीएम ने निर्देश दिया । डीएम ने कहा रिंग रोड बन जाने से सीतामढ़ी शहर को ट्रैफिक जाम की समस्या से निजात मिलेगा । उन्होंने कहा इसके लिए आवश्यक राशि नगर आवास विभाग द्वारा उपलब्ध करवाया जाएगा ।

इसके अतिरिक्त पथ निर्माण विभाग, राष्ट्रीय उच्च पथ प्रमंडल, पीएचडी , ग्रामीण कार्य विभाग द्वारा चल रही योजनाओं का समीक्षा डीएम द्वारा किया गया और आवश्यक दिशा निर्देश भी दिया गया । पंचायत सरकार भवन, ई किसान भवन, कब्रिस्तान की घेराबंदी आदि कार्यों की समीक्षा भी डीएम द्वारा किया गया । डीएम ने कहा कि जिले कि जिन सड़को का डीपीआर अभी तक नहीं बना है, उसका डीआईआर जल्द से जल्द बना कर भेजे ताकि सम्बन्धित विभाग से उनकी स्वीकृति अविलम्ब कराया जा सके । उक्त बैठक में प्रभारी पदाधिकारी विकास प्रशाखा, डीपीआरओ परिमल कुमार, सहित सभी तकनीकी विभाग के पदाधिकारी उपस्थित थे ।

आर्टिकल : ( रंजीत पूर्बे )

लाइक कीजिये सीतामढ़ी पेज http://facebook.com/Sitamarhi और जुड़े रहिये अपने शहर सीतामढ़ी से । 77,000 Followers के साथ सीतामढ़ी का न.1 पेज । सीतामढ़ी का सबसे बड़ा सोशल वेब पोर्टल ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *