‘शिक्षक’ और ‘कैरियर मार्गदर्शक’ की भूमिका में अक्सर दिख जाते हैं सीतामढ़ी डीएम ।

यूँ तो सीतामढ़ी जिला जिलाधिकारी डॉ रणजीत कुमार सिंह जब से सीतामढ़ी के नए डीएम बने हैं तब से लगातार सीतामढ़ी नये नये कीर्तिमान गढ़ रहा है । उनके निर्देशन में सीतामढ़ी नित्य नये ऊंचाइयों को छू रहा है । लेकिन आज बात करते है शिक्षा की । डीएम डॉ रणजीत कुमार सिंह स्पष्ट कहते हैं ”शिक्षा सबसे अहम चीज है ” । शिक्षा ही पहली कड़ी है जो विकास का साधक है । गरीबी हटाने का भी अचूक उपाय है शिक्षा । साफ शब्दों में कहे तो एकमात्र शिक्षा ही वह जरिया है जिससे मानव या समाज का सम्पूर्ण विकास हो सकता है । यही कारण है कि डॉ रणजीत कुमार सिंह शिक्षा पर खास जोर देते हैं ।

शिक्षक की भूमिका में दिखे डीएम। आज अपने कार्यालय कक्ष में दिव्यांग छात्र को प्रतियोगिता परीक्षा में सफलता के टिप्स बताते देखे गए सीतामढ़ी जिलाधिकारी डॉ रणजीत कुमार सिंह।

पहले भी समय समय पर सीतामढ़ी डीएम बच्चों का क्लास लेते रहे हैं । बच्चों को मोटिवेट करना, उन्हें परीक्षा में सफलता के टिप्स के साथ जीवन मे आगे बढ़ने की प्रेरणा देना जैसे काम अक्सर करते रहे हैं ।

पिछला एक वीडियो ‘सीतामढ़ी यूट्यूब’ पर देखिये :

https://youtu.be/_7Z9g9tb93c

ये ताजा मामला है । नीचे पढिये :

अनुकरणीय पहल……………. सीतामढ़ी………..जिलाधिकारी, कार्यालय ,कक्ष में एक दिव्यांग गरीब छात्र लगभग 1 बजे अपराह्न में डीएम से मिलने की अर्जी भेजता है,उसकी अर्जी पर डीएम तुरंत उसे बुलवाते है।यह छात्र प्रखंड बेलसंड के चंदौली ग्राम का निवासी मो0 अनवारूल हक था,जो पैर के साथ साथ कान से भी दिव्यांग है।उसने डीएम से अपनी आप-बीती सुनाते हुए कहा कि मैं लगातार चार बार से बीपीएससी मुख्य परीक्षा पास कर रहा हूं, फिर भी मुझे पूर्ण सफलता नही मिल रही है।थोड़े-थोड़े अंको के कारण मैं अंतिम रूप से चयन से वंचित हो जाता हूँ।

डीएम ने अपनी संवेदनशीलता प्रकट करते हुए अन्य महत्वपूर्ण कार्यो को छोड़कर ऊक्त छात्र से विस्तार से बात किया।उन्होंने कुछ प्रश्नों को हल करने हेतु ऊक्त छात्र दिया,जब ऊक्त दिव्यांग छात्र ने अपना जबाब लिख कर डीएम को दिखया तो,डीएम ने तुरत उसपर कलम से कोट करते हुए बताया कि आपके जबाब में निम्न कमियां रह गई है और उन्होंने विस्तार से स्वयं जबाब लिखकर बताया कि अगर आप इस तरह से उत्तर लिखेंगे तो निश्चित रूप से ज्यादा नंबर मिलेगा। इतना ही नही डीएम ने ऊक्त छात्र की हौसला बढ़ाते हुए उसे मिशन 50 में निशुल्क पढ़ने हेतु व्यवस्था की बात कही,साथ ही अन्य आवश्यक सहयोग का भी आश्वासन दिया।

डीएम ने वहाँ उपस्थित एलडीएम सुनील कुमार महतो को निर्देश दिया कि ऊक्त छात्र को हर सम्भव सहायता हेतू संबंधित व्यक्तियो एवम संस्थानों से समन्यवय करे ताकि इन्हें किसी भी प्रकार की परेशानी का सामना नही करना पड़े।गौरतलब हो कि इस बार भी ऊक्त दिव्यांग छात्र ने बीपीएससी की पीटी परीक्षा दी है।

अभी दो दिन पहले ही डीएम ने विशेष पहल करते हुए एक दिव्यांग छात्रा का नामांकन केंद्रीय विद्यालय में कराया ।

डीएम सर मुझे शिक्षा के आशीर्वाद के रूप में अच्छे स्कूल में नामांकन की भिक्षा दे।ऊक्त बाते डीएम डॉ रणजीत कुमार सिंह को उनके कार्यालय कक्ष में एक दिव्यांग छात्रा खुशी कुमारी ने अपने आवेदन में कही। खुशी ने कहा कि सर मैं वर्तमान में सरस्वती विद्या मंदिर सुरसंड में पढ़ती हूँ।मैं अंग्रेजी माध्यम से पढ़ना चाहती हूँ।डीएम को उस मासूम दिव्यांग की बाते दिल को छू गई,उन्होंने उसी समय अपने स्टेनो को बुलाकर प्राचार्य केंद्रीय विद्यालय ,जवाहर नगर,सुतिहारा, सीतामढ़ी को कक्षा 8 में नामांकन हेतु अनुशंसा भेज दिया,जिसके आलोक में ऊक्त दिव्यांग छात्रा का नामांकन केंद्रीय विद्यालय में हो गया।डीएम ने ऊक्त छात्रा को आशीर्वाद देते हुए कहा ही तुम्हे अच्छी पढ़ाई हेतू अन्य सहायता भी दी जाएगी।गौरतलब है कि डीएम का केंद्रीय विद्यालय में कोटा होता है,जिसे पात्र छात्र को डीएम नामांकन हेतू अनुसंशित करते है।ऊक्त दिव्यांग का नामांकन वास्तव में किसी कोटा द्वारा नामांकन का सर्वोत्तम उदाहरण है।

जब भी फुर्सत मिलता , परीक्षार्थियों से जरूर रूबरू होते । समय समय पर पढाई लिखाई और परीक्षा के टिप्स ।
बीपीएससी परीक्षा नजदीक आते ही इसके अभ्यर्थियों से मिलने और उन्हें टिप्स देने सीतामढ़ी जिला पदाधिकारी डॉ रणजीत कुमार सिंह अक्सर रविवार को पटना जाते हैं । सोमवार से पुनः समाहरणालय,अपने कार्यालय में ।

गरीब और प्रतिभावान बच्चों को सिविल सर्विसेज की तैयारी भी करवाते हैं जिलाधिकारी डॉ रणजीत कुमार सिंह ।

सीतामढ़ी के डीएम डॉ रणजीत कुमार सिंह (IAS) के मार्गनिर्देशन में चलने वाला पटना स्थित सिविल सर्विसेज की कोचिंग #मिशन_50 ने हाल ही में पिछले बीपीएससी परीक्षा के रिजल्ट में शानदार प्रदर्शन किया है ।

आपको बता दूं पटना स्थित ”मिशन 50” के संस्थापक और चीफ मेंटर है डॉ. रणजीत कुमार सिंह । इस कोचिंग में 50 गरीब और मेधावी बच्चों को मुफ्त में सिविल सर्विसेज और बीपीएससी की तैयारी करायी जाती । अभी बीपीएससी के रिजल्ट से ठीक पहले डॉ रणजीत कुमार सिंह इंटरव्यू की तैयारी खुद करवाये थे बच्चों को । छात्रों को इंटरव्यू टिप्स देते हुए आप इस वीडियो में देख सकते हैं :

https://youtu.be/qv2PSX9lfPQ

इस साल भी यह संस्थान शानदार रिजल्ट दिया है ।
मिशन 50 व मिशन आईएएस संस्थान के निदेशक और फैकल्टी मेंबर आनंद राज सर और विजय पांडे जी है । उन्होंने बताया कि संस्थान में 50 बच्चों की चयन प्रक्रिया में सीतामढ़ी के बच्चों को प्राथमिकता भी दी जाएगी । इस संस्थान में प्रवेश प्रक्रिया के आधार पर नामांकन लिया जाता है । इक्छुक अभ्यर्थी तुरन्त सम्पर्क करें । पटना में इसकी दो शाखा है : एक विष्णु पैलेस, पूर्वी बोरिंग कैनल रोड मे और दूसरा धरहरा कोठी,नया टोला पटना । आप डिटेल के लिए दिए गए फोन नम्बर पर सम्पर्क कीजिये :
6201020841 (आनंद राज)
7260953507 ( विजय पांडे)

आपको जानकर आश्चर्य होगा और खुशी भी की डीएम डॉ रंजीत कुमार सिंह के पढ़ाए गए लगभग 200 छात्र आज बिहार के विभिन्न जिलों में प्रखंड विकास पदाधिकारी (बीडीओ) के रूप में पोस्टेड हैं । सीतामढ़ी में भी 6 बीडीओ उनके छात्र रह चुके हैं। डीएम डॉ रणजीत कुमार सिंह ने बताये कि बिहार के गरीब और प्रतिभावान छात्र को उचित और सही मार्गदर्शन मिल सकें : यही सोच कर मैंने ‘मिशन 50’ नामक पूर्णतः निःशुल्क सिविल सर्विसेज कोचिंग की स्थापना की । और आज यह कोचिंग सफलता का परचम लहरा रहा है तो ये बहुत खुशी की बात है ।

पिछले साल सीतामढ़ी जिलाधिकारी का पद सम्भालते ही डीएम डॉ रणजीत कुमार सिंह ने जिस काम को सर्वोच्च प्राथमिकता दी, वह शिक्षा ही था । उन्होंने विद्यालय में बच्चों के अधिकाधिक प्रवेश हो, इस मुद्दे को एक जनांदोलन का रूप दिया । रिकॉर्ड बच्चों का नामांकन विद्यालय में कराया गया । व्यापक स्तर पर कार्यक्रम आयोजित हुए । डीएम खुद मोनिटरिंग कर रहे थे ।

पिछले साल ही एक और बच्चों का नामांकन डीएम ने केंद्रीय विद्यालय में कराया था । यह समाचार काफी सुर्खियों में रहा । क्योंकिं पढ़ने की इच्छा जताने पर डीएम ने उन्हें शैक्षणिक गोद लिया ।

इस तरह के प्रयास बहुत ही सराहनीय है । वास्तव में शिक्षा की वह सशक्त माध्यम है जिससे व्यक्ति और समाज का उत्थान हो सकता है । प्रतियोगी परीक्षा खास कर सिविल सर्विसेज की तैयारी कर रहे छात्रों की सुविधा हेतु पटना स्थित मिशन-आईएएस 50 की एक शाखा शीघ्र ही सीतामढ़ी में खोलने की बात डीएम ने कही । निश्चित ही यह बहुत ही स्वागत योग्य कदम है ।

पिछले दिन विद्यालयों के औचक निरीक्षण में पहुंचे जिला पदाधिकारी ।
जिला पदाधिकारी ने सरकारी विद्यालय में बच्चों को पढ़ाया : दिया एक सन्देश ।।

यदि सरकारी विद्यालयों की बदहाल स्थिति को सही में व्यवस्थित और सही करना है तो डीएम का ऐसे ही औचक निरीक्षण बेहद जरूरी है ।
सीतामढ़ी डीएम डॉ रणजीत कुमार सिंह पिछले दिन एक सरकारी विद्यालय पहुँच कर बच्चों से किताबी जानकारी ली । पोशाक योजना, मध्यान्ह भोजन योजना, स्वच्छता, पर्यावरण संरक्षण आदि से सम्बंधित बातें भी उन्होंने की । बच्चों को उन्होंने ब्लैकबोर्ड पर पढ़ाया भी । डीएम ने सभी ब्लॉक लेवल अधिकारियों को समय समय पर सभी ग्रामीण क्षेत्रों की विद्यालयों की औचक निरीक्षण करने और सीधा उन्हें रिपोर्ट करने का निर्देश दिया है । ये एक बहुत ही उम्दा कदम है ।
इसतरह का निरीक्षण और निर्देश बेहद जरूरी है । सरकारी विद्यालयों के सीधा मॉनिटरिंग और निरीक्षण खुद जिला पदाधिकारी करें । तभी शिक्षा व्यवस्था के हालात सुधरेंगे । इस मद्देनजर सीतामढ़ी डीएम के प्रयास सराहनीय है ।

प्रतिभावान और गरीब बच्चों के लिए सीतामढ़ी डीएम द्वारा किये जा रहे प्रयासों की सराहना समय समय पर समाचारपत्रों द्वारा भी की जाती रही है ।

सीतामढ़ी जिला में और भी बहुत उपलब्धि है इस जिला पदाधिकारी के । आज का यह विशेष आर्टिकल मुख्यतः शिक्षा पर फोकस है । किंतु पिछले साल एक प्रमुखतः टीवी चैनल के इस वीडियो में आप देख सकते है किस तरह सीतामढ़ी जिला पदाधिकारी डॉ रणजीत कुमार सिंह के नेतृत्व में सीतामढ़ी नित्य नई बुलंदियों को छू रहा है । ये रहा लिंक :

https://youtu.be/97jh9HikQsc

लाइक कीजिये #सीतामढ़ी_पेज http://facebook.com/Sitamarhi और जुड़े रहिये अपने शहर सीतामढ़ी से ।#Sitamarhi_Page सीतामढ़ी का सबसे बड़ा वेब पोर्टल है । फेसबुक पर इसके 85 हज़ार Followers हैं । सीतामढ़ी यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब कीजिये । सीतामढ़ी सम्बंधित ढेर सारे वीडियो आप देख पाएंगे : http://Youtube.com/SitamarhiPage

आर्टिकल : रंजीत पूर्बे

Thanks !!!Sitamarhi Web Family

2 thoughts on “‘शिक्षक’ और ‘कैरियर मार्गदर्शक’ की भूमिका में अक्सर दिख जाते हैं सीतामढ़ी डीएम ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *