सदर अस्पताल का निरीक्षण

कहते है वर्षों बीत जाते हैं पर सरकारी भवनों की तस्वीरें नहीं बदलती पर सीतामढ़ी के सदर अस्पताल का हाल कुछ इसके विपरीत है ।

हमारी टीम ने आज जायजा लिया सदर अस्पताल का और जैसा हमने सोचा था तस्वीर ठीक इसके विपरीत निकली है । हमने सबसे पहले आपातकालीन वार्डों का जायजा लिया वहां के 2 मरीजों ने हमें बताया कि डॉक्टर थोड़ी देरी से पहुंचते हैं ।

सरकार का स्वास्थ्य सेवाएं बेहतर होने का दावा जमीनी स्तर पर देखने को मिलता है वही अगर बात करें सफाई की तो सफाई के मामले में भी अस्पताल का हाल काफी अच्छा है ।

अस्पताल में डॉक्टरों के बैठने का समय सुबह 10:00 बजे से दोपहर के 2:00 बजे तक का है केवल आपातकाल सेवाओं को छोड़कर ।

लगता है जिस तरह से उत्तर प्रदेश के सरकारी भवनों में पान गुटखा पर पाबंदी लगी है ठीक उसी प्रकार हमारे सीतामढ़ी में भी आवश्यकता है ऐसी योजना की अस्पताल प्रशासन सफाई में लगा है पर लोग गुटका पान का पिक फेंक कर गंदगी फैला रहे हैं ।

पीने का पानी हॉस्पिटल के किसी भी बिल्डिंग में उपलब्ध नही है यहाँ तक की स्टाफ निचे चापाकलों से पानी लाते हैं। सड़ रहे एम्बुलेंस पर भी हमारी नजर गई । वाहन का कंडिशन अच्छा लगता हैं लेकिन गाड़ी को रखकर सड़ा दिया गया हो।

एम्बुलेंस का हाल बेहाल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *