सीतामढ़ी के तीन ‘लाल’ बने सेना में ऑफिसर । लेफ्टिनेंट बन कर करेंगे देशसेवा ।

सीतामढ़ी की धरती बहुत उर्वर है । यहाँ की कई बेटे बेटियां अपनी ‘प्रतिभा’ से देश दुनिया को आलोकित कर रहा । भारतीय सेना में भी यहाँ की कई सपूत अपना योगदान देकर देशसेवा कर रहे हैं । अमर जवान कारगिल शहीद मेजर चन्द्रभूषण द्विवेदी जी की धरती शिवहर और सीतामढ़ी ही है । वर्तमान में वायुसेना में एयर मार्शल वीएसएम के महानिदेशक अमित देव जी सीतामढ़ी के ही निवासी है ।

अब दो दिन पहले ही सीतामढ़ी के तीन ‘लाल’ एक साथ भारतीय सेना में ऑफिसर बन गए हैं ।

अब सीतामढ़ी का तीन ‘लाल’ भारतीय सेना में बना लेफ्टिनेंट 🇮🇳
डुमरा, शांतिनगर निवासी रमण श्रीवास्तव और मनु मनीषा जी के सुपुत्र अमन श्रीवास्तव अब भारतीय सेना में अधिकारी बन गए । आईएमए, देहरादून में परसो ही कमीशन्ड हुए हैं ।

सैनिक स्कूल, तिलैया से क्लास छठी से 12 वीं तक पढाई करने के बाद 2015 में अमन ने पहले ही प्रयास में यूपीएससी की एनडीए परीक्षा पास की । फिर तीन साल की पढ़ाई एनडीए,खड़गवासला,पुणे और एक साल की ट्रेनिंग भारतीय सैन्य अकादमी,देहरादून में ।

सीतामढ़ी के लिए बहुत ही गौरव का क्षण । अमन और उनके परिवार के लिए खुशी का पल । आईएमए,देहरादून से परसो की ये तस्वीर जब अमन कमीशन्ड होकर सैन्य अधिकारी बन रहे थे तो लेफ्टिनेंट वाला बैच उनके माता पिता लगाए ।

अमन ने अपनी सफलता का श्रेय अपनी नानी स्व. पार्वती कुमारी जी को दिया है । अमन ने बताया बचपन से ही मेरी नानी माँ पढाई लिखाई के लिए बहुत प्रोत्साहित करती रही । हमेशा उनका साथ और आशीर्वाद मेरे ऊपर बना रहा ।

सीतामढ़ी के बनचौरी गाँव निवासी रमेश कुमार और सुमित्रा कुमारी के सुपुत्र मनीष कुमार भी अब भारतीय सेना में अधिकारी बन गए । आईएमए, देहरादून में परसो ही कमीशन्ड हुए हैं ।

सैनिक स्कूल, रेवा,मध्य प्रदेश से क्लास छठी से 12 वीं तक पढाई करने के बाद 2015 में मनीष ने पहले ही प्रयास में यूपीएससी की एनडीए परीक्षा पास की । ऑल इंडिया रैंक 10 वां मिला । फिर तीन साल की पढ़ाई एनडीए,खड़गवासला,पुणे और एक साल की ट्रेनिंग भारतीय सैन्य अकादमी,देहरादून में ।

मनीष के पिता जी सिविल कोर्ट,डुमरा में स्पेशल पीपी हैं वहीं माता जी रामपुर परोरी स्थित मध्य विद्यालय में शिक्षिका हैं । मनीष के बहन मेनका कुमारी पटना में शिक्षिका हैं वहीं भाई गौरव कुमार पढाई कर रहे हैं।

सीतामढ़ी के लिए बहुत ही गौरव का क्षण । मनीष और उनके परिवार के लिए खुशी का पल । आईएमए,देहरादून से परसो की ये तस्वीर जब मनीष कमीशन्ड होकर सैन्य अधिकारी बन रहे थे तो लेफ्टिनेंट वाला बैच उनके माता पिता लगाए । मनीष ने अपनी सफलता का श्रेय अपने माता पिता को दिया है ।

सीतामढ़ी के परसौनी ब्लॉक के परशुरामपुर गाँव के उमाशंकर यादव के पुत्र आर्यन यादव 2015 में यूपीएससी की एनडीए परीक्षा पास की । फिर तीन साल की पढ़ाई एनडीए, खड़गवासला,पुणे में और एक साल का सैन्य प्रशिक्षण देहरादून के इंडियन मिलिट्री अकेडमी में । परसो ही ये लोग कमीशन्ड होकर भारतीय सेना में अधिकारी बन गए हैं ।

सीतामढ़ी के लिए बहुत ही गौरव का क्षण आर्यन और उनके परिवार के लिए खुशी का पल । आईएमए,देहरादून से परसो की ये तस्वीर जब आर्यन कमीशन्ड होकर सैन्य अधिकारी बन रहे थे तो लेफ्टिनेंट वाला बैच उनके माता पिता लगाए । आर्यन ने अपनी सफलता का श्रेय अपने माता पिता को दिया है ।

आईएमए, देहरादून से पासिंग आउट परेड के दौरान का ये खूबसूरत वीडियो :

वर्तमान में भारतीय वायुसेना में एयर मार्शल वीएसएम के महानिदेशक श्री अमित देव जी सीतामढ़ी के ही रहनेवाले हैं। सीतामढ़ी शहर के प्रसिद्ध चिकित्सक डॉ. विश्वनाथ प्रताप सिंह के पुत्र है अमित देव जी ।

Air Marshal Amit Dev VSM takes over as the Director General Air (OPS).

हाल ही में एयर मार्शल अमित देव जी को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद जी द्वारा विशिष्ट सेवा मेडल पदक से सम्मानित किया गया था ।

सीतामढ़ी शिवहर के चंडीहा निवासी मेजर चन्द्रभूषण द्विवेदी जी 1999 की भारत पाकिस्तान के बीच हुए कारगिल युद्ध मे शहीद हुए थे ।

देश के लिए शहीद होनेवाले इस अमर जवान की याद में सीतामढ़ी के राजोपट्टी में एक द्वार का निर्माण कराया गया है । इसे अमर शहीद द्विवेदी द्वार नाम दिया गया है । उनके पैतृक गांव शिवहर के चंडीहा में उनका एक स्मारक बनवाया गया है । सीतामढ़ी शिवहर का बच्चा बच्चा इस अमर शहीद से परिचित है । उनके प्रति अगाध श्रद्धा और आदर भाव रखते हैं ।

कारगिल शहीद मेजर चन्द्रभूषण द्विवेदी जी की पत्नी भावना द्विवेदी जी महिला सशक्तिकरण की अपने आप मे एक अनूठी मिशाल है । भावना जी एक बहादुर और कर्मठ महिला की उदाहरण भी हैं । इनकी कहानी भी बहुतों के लिए प्रेरणादायी है ।

शहीद चन्द्रभूषण द्विवेदी जी और भावना द्विवेदी जी की दो पुत्री हैं :

नेहा द्विवेदी डॉक्टर हैं और उनके हस्बैंड आर्मी ऑफिसर ही हैं ।

दीक्षा द्विवेदी एक जॉर्नलिस्ट है । स्टोरी टेलिंग वेबसाइट अक्कर बक्कर की संस्थापिका और #Letters_from_Kargil नामक पुस्तक की लेखिका ।

जानकी जन्मभूमि सीतामढ़ी और शिवहर के बहुत से सपूत देश सेवा कर रहे हैं। भारतीय थल सेना, नौसेना, वायुसेना सबमें सीतामढ़ी के लोग है । उन सभी को बधाई और शुभकामनाएं ।

एक बार पुनः कारगिल शहीद सीतामढ़ी-शिवहर निवासी मेजर चन्द्रभूषण द्विवेदी जी को शत शत नमन । उनके पूरे परिवार को ढेर सारी शुभकामनाएं । आप सब पर हमलोग को गर्व है ।

एयर मार्शल अमित देव जी को ढेर सारी बधाई और शुभकामनाएं ।

और अभी हाल ही में एक साथ सीतामढ़ी के तीन लाल सैन्य अधिकारी बने हैं। आप सबको खूब बधाई, खूब शुभकामनाएं ।

सीतामढ़ी के अमन श्रीवास्तव, मनीष कुमार और आर्यन यादव अभी दो दिन पहले ही आईएमए,देहरादून में कमीशन्ड होकर भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट बने हैं । हम सबके लिए खुशी और गौरव का क्षण ।।

सीतामढ़ी वेब परिवार की तरफ से आप सबको बधाई और हार्दिक शुभकामनाएं ।।

जय जानकी । जय सीतामढ़ी ।

लाइक कीजिये #सीतामढ़ी_पेज http://facebook.com/Sitamarhi और जुड़े रहिये अपने शहर सीतामढ़ी से ।#Sitamarhi_Page सीतामढ़ी का सबसे बड़ा वेब पोर्टल है ।

फेसबुक पर इसके 99 हज़ार Followers हैं ।सीतामढ़ी यूट्यूब चैनल को भी सब्सक्राइब कीजिये । सीतामढ़ी सम्बंधित ढेर सारे वीडियो आप देख पाएंगे : http://Youtube.com/SitamarhiPage

आर्टिकल : रंजीत पूर्बे

Thanks !!!

Sitamarhi Web Family

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *